ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

गुरुवार, 4 सितंबर 2008

सूरज की लालिमा को देखो

सूरज की लालिमा को देखो
क्या कहती है उसकी रोशनी
जीवन की उमंगो को धागे से बांधो
निश्चल प्रेम की डोर से पूछो
कैसे टूट गयी नभ में वह
तरगं सी उठी थी मन में एक
किसी के कदमों कि आहट पाकर
चिड़ियों की चहचहाहट रुक सी गई
मन मॄदंग पर सरगम बनकर
शहनाई बज़ी थी दूर कहीं
किसी के आने के इन्तज़ार में
हवा के झोंकों से क्यों रुकी वह
जो बात किसी से कह न सकी
वह बरसती आखों ने कह डाली
लगन से सोचा था जिसे मेंने
कैसे पल भर में जुदा हुई वह
उषा की किरणों से पूछो
कैसे बिछ्डी थी अन्धकार में
सिसकियों को बन्द करके
अधरों पर लाई थी मुस्कान कैसे
भूल कर अपनी दूरियां जो
गतिमान है आज नई दिशा में
ऐसी सूरज की लालिमा को देखो

7 टिप्‍पणियां:

परमजीत बाली ने कहा…

सुन्दर शब्द चित्रण किया है।
बढिया रचना है।

श्रीकांत पाराशर ने कहा…

ek behtrine rachna.

नीरज गोस्वामी ने कहा…

बहुत सुंदर शब्द और भाव से सजी रचना...असरदार...आप को बहुत बधाई.
नीरज

neeshoo ने कहा…

रचना जी बहुत ही बेहतरीन रचना कर लिए आपको बधाई। आगे भी ऐसे ही जगमगाती रहिये अपनी लेखनी से।

निरन्तर - महेंद्र मिश्रा ने कहा…

bhavapoorn rachana . likhate rahiye. dhanyawad.

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत ही अच्छा लिखा है। बढिया रचना है।

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सुंदर..बधाई.