ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

मंगलवार, 16 सितंबर 2008

सब साथ हैं

कुछ तुम्हारे पास तो
कुछ हमारे पास है
सुप्त फ़िज़ां में झंकॄत
गीत कोइ लयबद्ध है
जानकर बने अन्जान तो
राज़ कोइ दरकार है
विखण्डित क्षितिज पर
अम्बर झुका खुद्दार है
कोप-प्रीति प्रकृति दिखाती
आज सूखा तो कल बाढ़ है
चार दिन की जिन्दगी में
एक दिन बचा एक रात है
छोड़ो मज़हब नीति के झगड़े
नाद करो हम सब साथ हैं
कुछ तुम्हारे पास तो
कुछ हमारे पास है