ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

शनिवार, 30 अगस्त 2008

हाइकु

दिव्यजोत
अलौकिक आनंद
मोक्ष साधन

1 टिप्पणी:

SWAPN ने कहा…

bahut khoob, ye to gagar men nahin , ek spoon men sagar bhar diya. badhai.