ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

शनिवार, 11 अक्तूबर 2008

तकदीर व तदबीर

जरूरी नहीं सबको मोती मिलें
हंस बनने की पहले कोशिश करें
तदबीर बनानी पड़ती है और
तकदीर में लिखा होता है
बड़ी मुद्दतों के बाद ही किसी
कौए के नसीब में मोती होता है।

1 टिप्पणी:

श्रीकांत पाराशर ने कहा…

Rachnaji, gagar men sagar bhar diya. bahut achhi rachna.