ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

शनिवार, 27 नवंबर 2010

अधूरी सी ..................
विक्षिप्त सी सीमा रेखा,
विलोम सभ्यता की प्रतीक
सी लगती है ।
ऊंची नीची पहाड़ियों पर,
आदमी और आदमखोरों की
लुका छुपी में
जर्जरता से बेफिक्र,
त्रासदी की बर्बरता अधूरी लगती है ।
दूसरों की पीड़ा वो,
क्यों कर सहें जब ,
स्वंय ही पीड़ित दिखते हों,
ऐसे आशातीतों की
हर बात अधूरी लगती है।
रंज से भीगे रुमालों से
जब मुंह वो पौंछा करते हैं ,
खुद इसकी खबर इन्हें नहीं
एक बूंद खून की गिरने पर
चहुं ओर तबाही मचती है ।
कटाक्ष नजरों के घेरे से,
जब अंगारों की धुंधकार निकलती है,
वहीं दबी -2 सी चिनगारी
जवालामुखी सी लगती है ।

17 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

एक बेहतरीन अश`आर के साथ पुन: आगमन पर आपका हार्दिक स्वागत है.

संजय भास्कर ने कहा…

आप बहुत सुंदर लिखती हैं. भाव मन से उपजे मगर ये खूबसूरत बिम्ब सिर्फ आपके खजाने में ही हैं

संजय भास्कर ने कहा…

आप बहुत सुंदर लिखती हैं. भाव मन से उपजे मगर ये खूबसूरत बिम्ब सिर्फ आपके खजाने में ही हैं

शेखचिल्ली का बाप ने कहा…

Gajab likha hai apne bhi meri tarah .

शेखचिल्ली का बाप ने कहा…

Nice post .

शेखचिल्ली का बाप ने कहा…

manpasand rachna .

शेखचिल्ली का बाप ने कहा…

wow ....

शेखचिल्ली का बाप ने कहा…

Tippani de di ab padhunga araam se .

शेखचिल्ली का बाप ने कहा…

yh tippani to maine sanjay bhai ko dekhkar hi likh di.

शेखचिल्ली का बाप ने कहा…

Bura mat manna .

शेखचिल्ली का बाप ने कहा…

Abhi naya naya hun main .

Sunil Kumar ने कहा…

सारगर्भित रचना . बहुत सुंदर .बधाई

वाणी गीत ने कहा…

दूसरों की पीड़ा वो,क्यों कर सहें जब ,स्वंय ही पीड़ित दिखते हों, ऐसे आशातीतों की हर बात अधूरी लगती है...
बात में दम है !

gumnaam shayra mayuri tyagi ने कहा…

apki rachna adbhut hai please mera blog bhi ek baar dekhe aap padhengi to sukun milega aur meri galtiya batana please

जीवन का उद्देश ने कहा…

धन्यवाद,

sushma 'आहुति' ने कहा…

बेहतरीन प्रस्तुती.....

senses of soul ने कहा…

come here from Malaysia =)