ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

मंगलवार, 7 अप्रैल 2009

प्यासी धरती

कटी फ़टी ज़िन्दगी सी
फटी फटी दरारों के साथ
टुकड़ों टुकड़ों में बंटी भूमि
अंतर्मन से आती आवाज़
मैं कितनी प्यासी हूं
मेरी प्यास बुझाए कोई
ऐसे में आस्मां से गिरकर
कोई बूंद सीने में समाती है
गर्मी की भभक से तब
अपनी आह वो बताती है
ये आह है उसके सुख की
तृष्णा उसकी नज़र आती है
कितना विशाल हृदय उसका
किसान का पसीना पीकर
फसल सीने पर उगाती है
इसका कोई वजूद नहीं
बस मालिक की धरोहर बन
पास जिसके वो होती है
उसी की बन जाती है
साक्षी हैं पन्ने इतिहास के
सिंघासनों के खेलों में
सीने कोे मैदान बनाकर
हार जीत के साथ में
रक्त रंज़ित हो जाती है
कटते सिरों गिरती लाशों के
नज़ारों को भी देखती है
उसी प्यास से उसी आस से
उसने तो पानी मांगा था
पानी के बदले खून मिला
प्रकृति के झरनों में भी क्या
आज रक़्त की धार बहती है
रंगों और क़िस्मों के विभेद ने
इसको अप्राकृतिक बनाया है
सुनो कराह कोई इसकी भी
सीने पर इसके सर रख के
कुछ शब्द सुनाई देते हैं
मैं प्यासी हूं मैं प्यासी हूं
मुझे खून नहीं पानी दे दो
एक बूंद के लिए मैं प्यासी हूं

20 टिप्‍पणियां:

Saiyed Faiz Hasnain ने कहा…

धरती माँ की इस मुश्किल को अगर सब समझ जाते तो आज भारत का ये हाल न होता । आपने काफी मार्मिक ढंग से इसे पेश किया है । जो मुझे बहुत अच्छा लगा क्योंकि आज के ज़माने में कौन ऐसा सोचता है ....

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

सुंदर प्रयास .सुंदर रचना .

रश्मि प्रभा ने कहा…

dharti ki pyaas ko mukharit kiya,har shabd me ek pyaas hai,bahut badhiyaa

परमजीत बाली ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति है।बहुत बढिया रचना लिखी है।बधाई स्वीकारें।

संगीता पुरी ने कहा…

सुंदर रचना ... अच्‍छी प्रस्‍तुति।

shyam kori 'uday' ने कहा…

... सुन्दर रचना।

ilesh ने कहा…

सुनो कराह कोई इसकी भी
सीने पर इसके सर रख के
कुछ शब्द सुनाई देते हैं
मैं प्यासी हूं मैं प्यासी हूं
मुझे खून नहीं पानी दे दो
एक बूंद के लिए मैं प्यासी हूं

Umda...behad khubsurat bhavnatmak pukar DHARTI ki pyas ki...

jay kumar ने कहा…

आपकी रचना सुन्‍दरतम है ा इसके मै प्रभावित हुआ ा आप हिन्‍दी साहित्‍य में बहुत अच्‍छी जानकारी रखती है ा मै भ्‍ाी कुछ आपसे सिखना चाहता हूॅ ा

Babli ने कहा…

बहुत ही सुन्दर रचना है! काश मै आपके घर के पास होती तो आपसे मिलने का सौभाग्य प्राप्त कर ती ! आप का कमेन्ट मिल ने पर मेरा उत्साह दुगना हो जाता है!

sarwat m ने कहा…

dhartee ko behtar dhang se paribhashit kiya, badhaayee.

saif ने कहा…

badi sunder rachna hai aap
me bhi likhta hoo. nya likhne wala hoo. journalism ka student kirpa hume bhi comments kre aur kuch nya btaye

azeebdastak.blogspot.com

SUNIL KUMAR SONU ने कहा…

pyasa dharti thi jab ambar jal-barsata tha,ab aasman hi do bund pani ko tarse to dharti ki ram kahani kya.

M.A.Sharma "सेहर" ने कहा…

Meaningful Poem !!!
Keep writing

devendraduniya ने कहा…

aapne bhut achchha likha hai.aapke blog se bhut kuchh janne komilta hai.aap se anurodh hai ki kripya lgatar likhti rhe.

sanjeev ने कहा…

dhrati pyasi hai . charo tarph sukha hai . ye pyas kesi hai ye koi nahi janta . na hi janna chahta hai .

Jyoti ने कहा…

Aapne bahut hi achchha likha hai. Isi prakaar likhti rahen aur hindi saahitya jagat ko samriddha karti rahen yahi meri shubh kaamnaayen hai!!

Please enable hindi in setting tab.
Jyoti Kothari

Subject of Gods experiments ने कहा…

this poem is really nice considering the environmental changes and global warming we are facing. organisations like WWF should use these poems to publicize their events.

saath hi aapke tippani ke liye dhanyawad! :-)

prayatna karunga ki agli har kavita me aapki prashansa le saku.

आदित्य ने कहा…

सादर प्रणाम ,रचना जी अंदर तक कचोट गया मेरा मन ,अपनी धरती माँ से यु तो मैं बतियाता रहता हूँ ,पर जैसे मम्मी को कभी कभी रात मैं सोने से पहले मूव लगाता हूँ ताकी उन्हें अच्छी से भरपूर नींद आ जाए ,एसा कुछ अपनी धरती माँ के साथ नही कर पाता, ............................बहुत शुक्रिया ,माँ के सारे बच्चे नींद से जग जाए इसी उम्मीद के साथ ..................आपने इस नाचीज़ को जो वक्त दिया सो तहे दिल से शुक्रिया

Suman ने कहा…

very good suman loksangharsha

Suman ने कहा…

very good suman loksangharsha