ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

शुक्रवार, 13 मार्च 2009

एक किरण

तम सागर में डूबे मन में
प्रवेश कर गई एक किरण
व्यापक रूप दिखाया उसने
हर गई सारा तमस किरण
सर्वांगीण हुआ मन मंदिर
शाश्वत बोध उजली किरण
प्रवाहबद्ध अलक्षित नौका मेरी
परिलक्षित पतवार किरण
प्रयासहीन निष्फल मंज़िल पर
कदम बनी खुशियों की, किरण
तृषा तृप्ति विश्राम स्थल में
नवचेतना सी बनी किरण

22 टिप्‍पणियां:

सतीश चंद्र सत्यार्थी ने कहा…

लाजवाब लिखा है आपने.
बधाई.
हिंदी के कुछ शब्द बड़े कठिन थे ; समझ नहीं आये.
पर अर्थ का अनुमान लगाने का भी एक अलग आनंद है.

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र ने कहा…

तम सागर में डूबे मन में
प्रवेश कर गई एक किरण
आपने लाजवाब लिखा है
बधाई....

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना!! बधाई.

Deepak "बेदिल" ने कहा…

सबसे पहले नमस्कार सुविकार करे ..और फिर धन्यवाद ...आपका एक नादान बालक /दीपक
"बेदिल"

dr mihir panchgavya ने कहा…

rat din jesa jivan
andhere ki shitalta ka shukh
ujale ki tpis ka dukh
kuchh smj me ata he trika
traju sa sthir....jivan
amaratva bina ka jivan

MARKANDEY RAI ने कहा…

तम सागर में डूबे मन में
प्रवेश कर गई एक किरण
बहुत सुन्दर रचना.....

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

किरण से रण

अच्‍छा लगा

रण सदा
तम से ही हो

जरूरी नहीं

रण विचारों का

भी कुछ
कम तो नहीं।

SUNIL KUMAR SONU ने कहा…

ek kiran dikhi apki lekhni me
ek kiran aapki bachpan si miskaan me.ek kiran ki talash karti duniyan,jo kahin chhip gya aasmaan me.

Avani Jain ने कहा…

bahut bauht bahut khoob likha hai, shabd nahi hai iske baare mein kuch, itni shuddh hindi ke prayog ne hamara man prafullit kar diya hai.......
ye jaankar khushi hui ki aap hamare rajasthan se hain aur bahut khoob likhti hai...
hamare blog par aakar hame prerna dene ke liye shukriya...
bas do shabd aapki is rachna ke liye- is kiran ke prakash mein, prakashit ho aapka har pal, aapki kalam kabhi ruke na, jhuke na, bas yahi kamna hai har pal....

Tarunai ने कहा…

achchhi kavita ke liye badhai.

sandhyagupta ने कहा…

Is atyant bhavpurn rachna ke liye badhai swikaren.

Arvind Singh Sikarwar "AZAD" ने कहा…

vande matram ji bahut achaa liha hai aapne magar aap apne is sahitya ko aur saral bhasha main likhe to bahut hi achhaa hoga aur sabhi samajh sakenge vande matram

amitabhpriyadarshi ने कहा…

mai pahale bhi apke blog men aa chuka hoon. achhi lagi kavita
ek kiran
तृषा तृप्ति विश्राम स्थल में
नवचेतना सी बनी किरण
ye panktiyaan vishad arth liye hain.
sath hi puri kavita bhi.

ऊर्दू दुनिया ने कहा…

बहुत बहुत शुकिया आपका.

रश्मि प्रभा ने कहा…

बहुत ही अच्छी रचना है,
शब्दों का चयन उत्कृष्ट है......

श्रद्धा जैन ने कहा…

तृषा तृप्ति विश्राम स्थल में
नवचेतना सी बनी किरण

bahut bahut achhi rachna

BrijmohanShrivastava ने कहा…

क्लिष्ट आलंकारिक भाषा

संदीप शर्मा Sandeep sharma ने कहा…

बहुत ही सुन्दर रचना....

vidrohi ने कहा…

rachna wakayi achhi lagi, shubhkamnayein

vidrohi ने कहा…

rachna wakayi achhi lagi, shubhkamnayein

मा पलायनम ! ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना.

Babli ने कहा…

pahle to main apka tahe dil se shukriya ada karna chahti hun ki apne mera blog para aur apko achha laga.Apne har ek kavita itne achhi tarike se likha hai ki mann ko bha gaya hai. Apki jitni bhi tarif ki jaye utna hi kam hai. Bahut hi sundar roop diya hai apne har ek kavita ko.
Main apse ek chiz puchhna chahti hun ki main comment hindi script mein dena chahti hun jaise apko sabhi ne diya hai par ye mumkin kaise hai agar ap mujhe bataienge to behad khushi hogi.