ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

शनिवार, 14 फ़रवरी 2009

प्रेमाग्नि

रास्ता अंजान था
डगर थी अंज़ानी
नुकीले से पत्थ़रों में
चूनर अटकी धानी
डरे-डरे से सूख़े होंठ
आया पेश़ानी पर पानी
नज़रें किसी के छूने से
म़ायने ज़िन्दगी के ज़ानी
आस-पास धुंआ-धुंआ
सब जल रहा था
बेखबर सी वो थी
ज़माना ब़ेक़ल था
कि वो जल रही थी
या उसे जला रही थी
उसकी प्रेमाग्नि ।

4 टिप्‍पणियां:

SWAPN ने कहा…

premagni , rachna ji badhaai , sunder rachna.

विक्रांत बेशर्मा ने कहा…

प्रेमाग्नि की अनूठी परिभाषा !!!!बहुत शानदार !!!!

Daily News of Balia ने कहा…

अति सुन्दर है आपके यह "Premaagnee" रचना.

manish bharti ने कहा…

rachana ji is kavita ki jo patra he wo prem ki agni me jalna chahati he lekin use is jalim samaj ka dar he lekin uska prem such he agar usne apne mann se prem kiya he too use is prem ki agni me jalna ho tabhi uska prem umer kahelayega