ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

रविवार, 8 फ़रवरी 2009

सूर्य देव

सूर्य देव तुम्हें नमन
नमन तुम्हारी ज्वाला
दिनकर हो उजियारे दिन के
किरणों ने तुम्हें ताज पहनाया
शंख बजे तुम्हारे आने पर
मंगल ध्वनि स्वर छाया
कुपित दृष्टि जिसपर पड़े
बढ़े क्रोध क्रोधी का
पूजा अर्चना प्रात: नमन
से रहे तुम्हारी कृपा
सौर मण्डल के तुम मुखिया
नौ ग्रहों के ग्रहदाता
ऐसी ज्योति से गुलशन खिलता
सूरजमुखी तुम पर झुक जाता
शत शत नमन तुम्हें करता
हर प्राणी सृष्टि पर रहने वाला

12 टिप्‍पणियां:

अनिल कान्त : ने कहा…

सूर्य के ऊपर आपकी अच्छी कविता .....


अनिल कान्त
मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सुंदर रचना....
सूर्य की रौशनी से तो पूरा जग जगमगाता है, आपकी लेखनी भी ऐसे ही जगमगाए

विनय ने कहा…

बहुत सुन्दर


---
गुलाबी कोंपलें

महेंद्र मिश्रा ने कहा…

सुंदर अच्छी कविता ....

अखिलेश शुक्ल ने कहा…

रश्मि जी
सादर अभिवादन
आपकी रचनाएं मन को सकुन देने वाली है। आप इन्हें प्रकाशित कराने के लिए भेंजे मेरे ब्लोग पर समीक्षा के साथ-साथ पत्रिकाओं के पते भी हैं। देखकर आपकी प्रतिक्रिया से अवगत कराएं
अखिलेश शुक्ल
संपादक कथा चक्र
visit us--
http://katha-chakra.blogspot.com

संगीता पुरी ने कहा…

अच्‍छी कविता है सूर्य पर......

Bipin Jha ने कहा…

धन्यवाद जी,
आप के ब्लाग को देखा बहुत अच्छा ..।
इन दिनों कुछ व्यस्तता के कारण कुछ और नहीं लिख सका हूं जल्द ही पाठकों को मेरी "मृगतृष्णा" मिलेंगी।

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

कविता के माध्यम से की गई आपकी भगवान सूर्यदेव स्तुति बहुत ही बढिया लगी.
अति सुन्दर.........

प्रवीण जाखड़ ने कहा…

उत्तम!

islamicwebdunia ने कहा…

हमारी भी शुभकामनायें

katarbyont ने कहा…

ashok mishra katarbyont.blogspot.comआप मेरे ब्लॉग पर आईं, इसके लिए धन्यवाद. आपके ब्लॉग पर भी अच्छी सामग्रियां हैं. जिनको पढ़ कर मजा आगया. शेष फिर कभी. अब तो आपके ब्लॉग पर भी भ्रमण करता रहूँगा.

दिल दुखता है... ने कहा…

suraj hamein bahut kuch deta hai... lekin hum apne gurur ke aage kisi ka sammaan karna nahi jante.. aapki rachna se shayed hamari aankhein khul jayein. thanks mere blog par aakar mujhe protashan dene ke liye....