ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

रविवार, 17 मई 2009

दर्द की लहर

कविता मेरी धड़कनों से
दर्द को समेट लाती है
जब मेरे हृदय कैनवास पर
दर्द पूरे फैलाव में होता है
कोई अजन्मी आकृति स्पर्श कर
पानी की लहरों पर चलती है
मैं देखती रह जाती हूं बस
ज्वार भाटे में उसकी टूटती छवि
पानी की सिलवटों को पकड़
चादर की तरह तानने की कोशिश में
मगर असफल रह जाती हूं, क्योंकि
आ जाती है दर्द की एक और लहर

14 टिप्‍पणियां:

SWAPN ने कहा…

dard itna kahan se lati ho
ye lahar si kahan se laati ho
inka udbhav kahan se hota hai
umda , rachna jo tum banati ho

bura na manana tum likh raha hun, rachna bahut achchi lagi raha nahin gaya aur turant ye panktian likh din.

VIJAY TIWARI " KISLAY " ने कहा…

रचना जी,
अभिवंदन
दर्द की लहर में वाकई दर्द की लहर है.
कविताएं सच में धडकनों से दर्द को समेत कर लाती हैं और हम बार बार उन्हें एज आईने की तरह देखते (पढ़ते ) हैं.
बहुत अच्छा .
- विजय

AlbelaKhatri.com ने कहा…

rachnaji aapki har rachna umda hoti hai , yah bhi bahut achhi hai
BADHAI

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

क्या बात है रचना जी, इतना दर्द??

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

लहर पर लहर दर्द की। यही तो जीवन है।

Udan Tashtari ने कहा…

दर्द का आना जाना ही तो जीवन का नाम है..बहुत अच्छी रचना.

Kusum Thakur ने कहा…

आपकी रचना वास्तव मे बहुत अच्छी है. सही मे इस तरह का दर्द आप अपनी कविताओं मे कहाँ स लाती हैं ?

रंजना ने कहा…

Sacty kaha aapne,bhavatirek hee kavitaon ko janm deti hain....

Sundar rachna....

अनिल कान्त : ने कहा…

bahut achchhi rachna
dard liye huye

abhi ने कहा…

यह कविता वास्तव में दिल को छू रही है.

devendraduniya ने कहा…

dard ye jindgi nasoor ban jati hai .
dard me n jiya kar dard jindgi ko khaamosh bna deti hai.

satish kundan ने कहा…

कविता मेरी धडकनों से
दर्द को समेट लाती है...बहुत गहरे भाव,मैं आज आपके ब्लॉग पे पहली बार आया..बहुत अच्छा लगा.आप बहुत सुन्दर लिखतीं हैं.कभी मेरे ब्लॉग पर आइए आपका स्वागत है..

Pawan Kumar ने कहा…

achi rachna hai. isi taarah likhti rahiye. kavita ke liye aap mera blog pawankumarpks.blogspot.com bhi pad sakti hain

शोभना चौरे ने कहा…

पानी की सिलवटों को पकड़
चादर की तरह तानने की कोशिश में
मगर असफल रह जाती हूं, क्योंकि
आ जाती है दर्द की एक और लहर
bhut sundar bhavabhivykti.