ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

रविवार, 10 मई 2009

दिल एक कब्रगाह

दिल एक कब्रगाह]
जिसमें अरमान बड़े हैं
वक्त शाश्वत सत्य बना
इसमें सत्याग्रही बड़े हैं
लोहे से तुलना करने पर
चोटें, दिल पे अधिक हुई हैं
कनक के आगे रखकर देखूं
दिल की अग्निगुहा बड़ी है
फिर भी दुनियां बातें गुनती
दिल चीज़ नरम बड़ी है
मां की लुटी ममता के आगे
स्त्री की सूनी कलाई के आगे
बहन की टूटी राखी के आगे
बेटी के सूने पीहर के आगे
इसकी नरमाई थमी है
यहीं से दिल की कोमलता
एक शिला बनी है
टूटे अरमान यहां टूटी हसरतें हैं दिल एक कब्रगाह
अब हुआ इस पे यकीं हैं

23 टिप्‍पणियां:

Priya ने कहा…

khoobsurat rachna ke liye badhai

शारदा अरोरा ने कहा…

बड़ी सुन्दर कविता लिखी है नर्म दिल और यूँ शिला में तब्दील होना |
इसी सन्दर्भ में मेरी लिखी हुई पंक्तियाँ पेश हैं

थकन लेकर

वक़्त फिसल जाता है मुठ्ठी से
बालू की तरह
हिस्से कुछ नहीं आता
हारे हुए प्यादे की तरह
झुनझुनों से बहलेंगें
तो बह जायेंगे तिनकों की तरह
उगा लेता है सब्ज़ बाग़ भी
कब्र गाहों पर
ये आदमी का हौसला है ,
चुन लेता है फूल
कब्र-गाहों पर
सीने में सब दफ़न करके
वरना चलना नहीं होगा
चलने की थकन लेकर

शोभना चौरे ने कहा…

man ko chune vale ahsas.
achi post ke liye bdhai.

नीरज कुमार ने कहा…

टूटे अरमान यहां टूटी हसरतें हैं...

very true...

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बहुत खूब!!! सुन्दर रचना.

VIJAY TIWARI " KISLAY " ने कहा…

"यहीं से दिल की कोमलता एक शिला बनी है,"
कोमलता पर शिला रुपी कठोरता उत्पन्न करने वाली आज की परिस्थितियाँ दिनों दिन विकराल
होती जा रही हैं. सच में आपने इस रचना में बेहद निर्भीकता का परिचय दिया है.
रचना जी हमारी अशेष शुभकामनाएं
- डॉ विजय तिवारी "किसलय "

SWAPN ने कहा…

umda rachna ke liye badhai, bhavo ki uttam abhivyakti ke liye badhai.

shama ने कहा…

Rachnaji,
Mere blogpe aap tippanee detee rehteen hain..mai bohot shukrguzaar hun..
Mere kul 13 blogs hain..Sbse pehle mai,ekhee blogke tehet,"The light by a lonely path",likhtee rahee..chnad mahinon poorv vishayanusar blogs alag kar diye..
Apne shayad meree '...Duvidha" maalikape tippnee dee thee.
"Kavita,"lalitlekh","aajtak yahantak","sansmaran","baagwaanee,"kahanee",dharohar,"gruhsajja","chindichindi","fiber art","lizzat" ye kuchh any blogs hain...ho saktaa hai, meree URL me maine kuchh gadbadi kar dee hai...kavita, sansmaran, adi kuchh blogs 2/3 jageh bikhar gaye hain...
Aap jaise rachnakaarse guzarish hai,ki aap chand blogs dekhen aur mera maargdarshan karen...mai to na lekhika hun na kavi...!
Aaapki rachnaonpe tippanee dena....! Mai itnee qabilhee nahee...yahee sach hai...

AlbelaKhatri.com ने कहा…

nari ki antarchetna jitni urjaswit aur parakrami hoti, uski antarbhavna utni hi sukomal hoti hai, nari ki vedna ko yon hi swar dete rahiye.......BADHAI

T-POINT (टर्निंग पाईंट) ने कहा…

aap kee kavitayen achchhee hain !

Neha ने कहा…

khoobsorat rachna hain.blog main aane ke liye dhanyawaad

Shikha .. ( शिखा... ) ने कहा…

Bahut bahut khoob..
Bahut khoobsurat rachna..

Raashi ने कहा…

bhot hi sundar rachnaa, dil ko chu gyi........

kaptan ने कहा…

bahut badiya........

aaj bhi ने कहा…

meri pyari bahna
dil ek kabrgah sahi
par hai to dharti
aur sapne
kabhi murda nahi
sapne dafn hote hai
hamesha, jinda
jaise, bij
to dafn ho jane do in bojon ko
inke bhitar lahlahati sambhawnaen
ek din
kabr todkar
bahar ayengi, dekh lena

Talat Irfani ने कहा…

Bharti ji,

Aap ne Talat Sahib se aashirwad manga hai magar afsoos ke mil nahee payega. Kyonki Talat Sahib is Diniya mein nahee hai. Main unka beta Sumit unka Blog shimla se manage karta hoon. Mujhey mail karen at astoundinghimalayas@gmail.com

स्ट्रक्चर ने कहा…

मेरे ब्लॉग स्ट्रक्चर पर टिप्पणी/शुभकामनाओं के लिए आभार

Kusum Thakur ने कहा…

bahut hi khoobsoorat rachana hai.Mere blog par aane aur tippanni dene ke liye dhanyaad.

आर्यावर्त ने कहा…

ब्लॉग पर कमेन्ट कर उत्साहवर्धन करने के लिए आभार.
दिशा निर्देशित करते रहें.

सादर
आर्यावर्त

anil ने कहा…

मेरे ब्‍लॉग पर आने का धन्‍यवाद

shukla d p ने कहा…

rachana ji
aap ne mera blog dekha, so main ne aap ka blog dekkha.
aap ka blog jiyada acchaa hai.
poetry is always more creative than prose.
beat wishes

prabhakarmani ने कहा…

बहुत बढ़िया.कविताएं पढ़ता और समझता कम ही हूं. लेकिन आपकी कविताएं बेहतर लगीं. बधाई.

karuna ने कहा…

Bhartijee,
mere blog par aakar mujhe protsahit karne ke liye dhanyavad,
"DIL EK KABRGAH HAI PAR ARMANO KE PHOOL BHEE YAHEEN KHILTE HAIN"
Marmsparshee rachna ke liye badhaee. ,