ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

रविवार, 2 नवंबर 2008

हावी मन

मन का जब कोई तार उलझकर खुलता है
कमल नयनों से नीर धार में बहता है
कुछ मखमली बिछौने हम भी उधार ले आएं
मेरे आंचल का कोना तो भीगा रहता है
मन की वीणा का जब कोई तार बजता है
रोम-रोम झंकृत कर एक नया ही सुर बनता है
खामोशी,एकांत ने हमें सदा ही लुभाया है
साथ इनके रहकर ही यादों का तांता रहता है
चितचोर बन कोई मन में समाए रहता है
बिन रूप आकृति के मन हम पर हावी रहता है ।

17 टिप्‍पणियां:

Dineshrai Dwivedi दिनेशराय द्विवेदी ने कहा…

सुंदर कविता के लिए बधाई।

tarun ने कहा…

rachna ji,
shubhkamnao ke liye dhanywad.
thnx,
tarun sharma, ni:shabd...shabdon ke jahan mein.

नीरज गोस्वामी ने कहा…

शब्दों का चयन और भाव...दोनों ही आप की रचना में लाजवाब हैं...बधाई...
नीरज

प्रदीप मानोरिया ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
प्रदीप मानोरिया ने कहा…

अद्भुत प्रवाह से सयुंक्त गंभीर भावाभिव्यक्ति से ओतप्रोत रचना समय निकल कर मेरे ब्लॉग पर दस्तक दे

DHAROHAR ने कहा…

चितचोर बन कोई मन में समाए रहता है
बिन रूप आकृति के मन हम पर हावी रहता है
अच्छी लगी कविता आपकी. स्वागत आपका मेरे ब्लॉग पर भी.

अमिताभ भूषण "अनहद" ने कहा…

चितचोर बन कोई मन में समाए रहता है
बिन रूप आकृति के मन हम पर हावी रहता है ।
क्या बात है ,जबरदस्त.आप की रचना मन को छू गई .

अमिताभ भूषण "अनहद" ने कहा…

चितचोर बन कोई मन में समाए रहता है
बिन रूप आकृति के मन हम पर हावी रहता है ।
क्या बात है ,जबरदस्त.आप की रचना मन को छू गई .

bhoothnath ने कहा…

jaane kyaa ye man hase kahataa hai
kya-kya-kya-kya-kya sapne buntaa hai.....
jindgi to apne man ki maalik hai..
jindgi se aksar ye kya-kya chuntaa hai.....

shama ने कहा…

" Haavee man" to bha gayee hee, par aapke mukhprushthpe likha," ...Nazariya badalke dekho..." ye alfaaz behad achhe lage...!

taanya ने कहा…

i m impressed

thanks to visit me

i lv to visit u also

Manish4all ने कहा…

dil ko chhu liya aapki nai kavita ne. shubhkamnaye.

ARVI'nd ने कहा…

badhai rachnaji, mujhe kavitao se jyada prem nahi tha par aapki rachna padhne ke baad laga ki ye meri galti thi..and now i love poem

राहुल सि‍द्धार्थ ने कहा…

भावनाओं की अच्छी लडी पिरोई है आपने.

राममोहन ने कहा…

nav varsh ki shubhkamnayai
आपकी कविता अच्छी लगी
आपका मेरे ब्लॉग पर भी स्वागत

राममोहन ने कहा…

nav varsh ki shubhkamnayai
आपकी कविता अच्छी लगी
आपका मेरे ब्लॉग पर भी स्वागत

Rahees Singh ने कहा…

kuchh makhamali khiloune ham bhi udhar le aayen ---
Rachanaji aapki yeh pankti pata nahi kyon mere antasthal ko kuchh jyada hi sparsh kar gayi. Aapne to apni kavitaon me jindagi ka marm bhar diya hai.