ब्लोगिंग जगत के पाठकों को रचना गौड़ भारती का नमस्कार

Website templates

समर्थक

मंगलवार, 14 जुलाई 2009

हालात


आज हर आदमी रोटी को
मोहताज़ बना कुछ ढूंढ रहा है
उसकी वो मिठास जो कहीं पर
खो गई है शायद,काश मिल जाए
हर किसी की रोटी से तोड़ता है
एक कौर कि कहीं इसमें तो नहीं
आज समय कुछ ऐसा है जब
कड़ी मेहनत से पसीना बहाकर
आज के कोलाहल की प्यास वो
रिश्तों की बली से बुझा रहा है
माहौल कुछ बन गया ऐसा कि
गुज़र बसर की जगह के लिए
लाशों को किनारे लगा रहा है
अपनी भूख प्यास मिटाने के लिए
देखो आदमी आदमी को खा रहा है

12 टिप्‍पणियां:

MANVINDER BHIMBER ने कहा…

आज हर आदमी रोटी को
मोहताज़ बना कुछ ढूंढ रहा है
उसकी वो मिठास जो कहीं पर
खो गई है शायद,काश मिल जाए
हर किसी की रोटी से तोड़ता है
एक कौर कि कहीं इसमें तो नहीं
कितना खूबसूरत लिखा है आपने.....

श्यामल सुमन ने कहा…

बहुत खूब - खासकर आपने तो अंत में धमाका कर दिया है।

मजहब का नाम लेकर चलती यहाँ सियासत
रोटी बड़ी या मजहब हमको जरा बताना

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

Udan Tashtari ने कहा…

ओह!! बहुत चोट पहुँचाती रचना!

वाणी गीत ने कहा…

बिलकुल ठीक ..अपनी भूख मिटने को आदमी आदमी को खा रहा है ..!!

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत गहरी और मार्मिक रचना.

रामराम.

balliathakur ने कहा…

वाह क्या खूब लिखा है आपने , शब्दों को कितने अच्छे ढंग से सजाके आपने जैसे एक माला बना दिया . आपने इन् चाँद लाइंस में ही सबकुछ लिख दिया है . बहूत खूबसूरत लिखा है

Rajender Chauhan ने कहा…

बिल्कुल सही लिखा है आपने, आज आदमी अपनी भूख मिटाने को, आदमी को खा रहा है ..!!
फिर भी आज, आदमी भूखा सा नज़र आ रहा है, इतना करने पर भी वो अपनी भुख नही मिटा पा रहा है......
बहुत ही सुंदर लिखा है आपने......

राजेंदर
http://rajenderblog.blogspot.com

Sunil Sharma ने कहा…

बहुत ही सरल और सहज शब्दों में उकेरी गयी एक भावभीनी प्रस्तुति
लगभग आज हममे से हर एक के जीवन की सच्चाई यही है

vallabh ने कहा…

अपनी भूख प्यास मिटाने के लिए
देखो आदमी आदमी को खा रहा है

बिलकुल सटीक लिखा है... बधाई..

त्रिलोचन भट्ट ने कहा…

Blog par bahut kam aa pata hun. isliye bahut der se aapse mulakat huyee. aapki Rachaayen vastav me sunder hain. halanki abhi bahut thodi rachnnaye pad paaya hun.

Arun saroha ने कहा…

mam mere paas shabd nahi hain aapki taarif karne ke liye.main aapko badhai deta hun.aapki lekhan shaili kafi umda hai.

shyam1950 ने कहा…

sachi bat ye hai ki kavita sitri man me hi upajati hai
lekin aapke bhav sundar hone ke bavjood shabd kasey jane ki gunjaish rakhte hain